Wednesday, 31 August 2017

Sms, shayri,fun,comedy, poetry,Ghazal, Love story

Saturday, June 23, 2018

70+ Two Line Shayari, Short Hindi Shayari, Best Shayari in 2 Lines 2018






Two Line Shayari, Short Hindi Shayari, Best Shayari in 2 Lines 2018







तन्हाई रही साथ ता-जिंदगी मेरे,
शिकवा नहीं कि कोई साथ न रहा।


धुआँ बन के मिल जाओ हवाओं में तुम,
साँस लेकर तुम्हें दिल में उतार लेंगे हम।



हमने कब माँगा है तुमसे अपने वफाओ का सीला,
बस दर्द देते रहा करो मोहब्बत बढ़ती जायेगी।




खुदा से मिलती है सूरत मेरे महबूब की,
अपनी तो मोहब्बत भी हो जाती है और इबादत भी।




मुहब्बत से भरी कोई गजल पसंद ही नहीं उन्हें,
बेवफाई के हर शेर पर मगर दाद दिया करते हैं। 







दर्द बनकर ही रह जाओ हमारे साथ
सुना है दर्द बहुत देर तक साथ रहता है




चला जाऊंगा जैसे खुद को तनहा छोड़ कर,
मैं अपने आपको रातों में उठकर देख लेता हूँ।




तुम फिर ना आ सकोगे, बताना तो था ना मुझे,
तुम दूर जा कर बस गए मैं ढूंढ़ता ही रह गया।





ना रख किसी से मोहब्बत की उम्मीद ऐ दोस्त
कसम से लोग खुबसूरत बहुत है पर वफादार नहीं




तू तो हँस हँसकर जी रही है,
जुदा होकर भी….कैसे जी पाया होगा वो,
जिसने तेरे सिवा जिन्दगी कभी सोची ही नहीं


ज़रूरी तो नहीं के शायरी वो ही करे जो इश्क में हो
ज़िन्दगी भी कुछ ज़ख्म बेमिसाल दिया करती है


सुबकती रही रात अकेली तनहाइयों के आगोश़ में,
और वो काफ़िर दिन से मोहब्बत कर के उसका हो गया।



कैसे गुजरती है मेरी
हर एक शाम तुम्हारे बगैर,
अगर तुम देख लेते तो
कभी तन्हा न छोड़ते मुझे।





बिछड़ के भी वो रोज
मिलता है मुझे ख्वाबों में,
अगर ये नींद न होती तो
कब के मर गए होते।




कितना भी दुनिया के लिए हँस के जी लें हम,
रुला देती है फिर भी किसी की कमी कभी-कभी।






कहने लगी है अब तो मेरी तन्हाई भी मुझसे,
मुझसे कर लो मोहब्बत मैं तो बेवफा भी नहीं।





बहुत सोचा बहुत समझा
बहुत ही देर तक परखा,
कि तन्हा हो के जी लेना
मोहब्बत से तो बेहतर है।



बंद मुट्ठी से याद गिरती है रेत की मानिंद,
वो चला गया ज़िन्दगी से ज़र्रा-ज़र्रा कर के।


सोचा था आज तेरे सिवा कुछ और सोचुँ !
अभी तक इस सोच में हुँ कि औरक्या सोचुँ !!


मैंने वो खोया जो मेरा कभी था ही नहीं
लेकिन तुमने वो खोया जो सिर्फ तुम्हारा था



घर में रहा था कौन कि रुखसत करे हमें,
चौखट को अलविदा कहा और चल पड़े।



सिर्फ लफ्ज़ नहीं ये दिलों की कहानी है,
हमारी शायरी ही हमारे प्यार की निशानी है।



पलकों पे आज नींद की किर्चें बिख़र गईं,
शीशे की आँख में कोई पत्थर का ख़्वाब है।


मिली हैं रुह तो फिर रस्मों की बंदिशें क्यों हैं,
जिस्म तो खाक होना है फिर रंजिशे क्यों है।



वैसे ही कुछ कम नहीं थे बोझ दिल पर,
कम्बख़्त, ये दर्जी भी जेब बायीं ओर सिल देता है।



ना देख अपने नज़रिये से दुनिया
 को
ऐ-दिल, यहाँ सबका अपना-अपना नज़रिया है।




सजदे कीजिए या मांगिए दुआए
जो आप का है ही नही वो आपका होगा भी नही

Dard E Dil Shayari, Dard Dil Shayari, दर्दे दिल शायरी


जब हुई थी मोहब्बत तो लगा किसी अच्छे कम का है सिला
खबर ना थी की गुनाहों की सजा ऐसे भी मिलती है




खेलना अच्छा नहीं किसी के नाज़ुक दिल से
दर्द जान जाओगे जब कोई खेलेगा आपके दिल से




उसका वादा भी अजीब था की ज़िन्दगी भर साथ निभाएंगे
मैंने ये नहीं पूछा की मोहब्बत के साथ या यादो के साथ


ना पीछे मुड़ के तुम देखो ना आवाज़ दो मुझ को
बड़ी मुश्किल से सीखा है तुमको अलविदा कहना




मैं हूँ दिल है तन्हाई है,
तुम भी जो होते तो अच्छा होता।



जिंदगी अजनबी मोड़ पर ले आई है,
तुम चुप हो मुझ से, और मैँ चुप हूँ सबसे।




यूँ ही बे-सबब नही बनते भँवर दरिया में,
ज़ख्म कोई तो तेरी रूह में उतरा होगा।




ना महोब्बत ही मिली ना जख्म ही भरे,
हम तो आज भी उन्ही राहों पे हैं खड़े।

2 line heart touching hindi shayri 2018
हम थे, तुम थे, कुछ जज़्बात भी तो थे,
अरे छोड़ो कुछ नहीं, अल्फ़ाज़ ही तो थे।




ज़हन की चादर में ख्यालों के धागे हैं,
ओढ़े हैं जो किरदार सबके सब आधे हैं।



मुहब्बत का सबक बारिश से सीखो,
जो फूलो के साथ काँटो पर भी बरसती है।




अभी काँच हूँ इसलिए दुनिया को चुभता हूँ,
जब आइना बन जाऊँगा पूरी दुनिया देखेगी।





क़दम क़दम पर सिसकी और क़दम क़दम पर आहें,
खिजाँ की बात न पूछो सावन ने भी तड़पाया मुझे।




अजनबी शहर में किसी ने पीछे से पत्थर फेंका है,
जख्म कह रहा है जरुर इस शहर में कोई अपना मौजूद है।





उन्होने अपने लबो से लगाया और छोड़ दिया,
वे बोले इतना जहर काफी है तेरी कतरा कतरा मौत के लिए।



उसे पाना उसे खोना उसी के हिज्र में रोना,
यही गर इश्क है तो हम तन्हा ही अच्छे हैं।





हमेँ कँहा मालूम था क़ि इश्क़ होता क्या है,
बस एक ‘तुम’ मिले और ज़िन्दगी मुहब्बत बन गई.





काश तुम पूछो के तुम मेरे क्या लगते हो,
मे ग़ल्ले लगाऊँ और कहु…”सब कुछ”.



short 2 line Love hindi shayri





तेरे चेहरे में वो जादू हैं,
के हर पल मेरे दिल को इसकी Khushbu आती रहती हैं.





मुझे तेरा साथ…जिंदगी भर नहीं चाहिये,
बल्कि जब तक तु साथ है…तब तक जिंदगी चाहिये!






कल तुझसे बिछड़ने का फैसला कर लिया था;
आज अपने ही दिल को रिश्वत दे रहा हूँ!



बहुत थे मेरे भी इस दुनिया में अपने,
फिर हुआ इश्क और हम लावारिस हो गए।






मैं नहीं इतना घाफिल कि अपने चाहने वालों को भूल जाऊं;
पीता ज़रूर हूँ लेकिन थोड़ी देर यादों को सुलाने के लिए!






वो मुस्कान थी, कहीं खो गयी;
और मैं जज्बात था कहीं बिखर गया।







इश्क़ में हमने वही किया जो फूल करते हैं बहारों में;
खामोशी से खिले, महके और फिर बिखर गए।





मेरे लफ्ज़ फ़ीके पड़ गए, तेरी एक अदा  के सामने;
मैं तुझे ख़ुदा कह गई, अपने ख़ुदा के सामने!






गुज़रते लम्हों में सदियाँ तलाश करतl हूँ;
ये मेरी प्यास है,नदियाँ तलाश करतl हूँ;






यहाँ लोग गिनाते है खूबियां अपनी;
मैं अपने आप में खामियां तलाश करतl हूँ!





फिर नहीं बसते वो दिल जो एक बार उजड़ जाते है;
कब्रें जितनी भी सजा लो पर कोई ज़िंदा नहीं होता!






ये तो अच्छा है कि दिल सिर्फ सुनता है;
अगर कहीं बोलता होता तो क़यामत आ जाती।!





⁠⁠⁠मेरी शायरी को इतनी शिद्दत से ना पढा करो;
गलती से कुछ समझ आ गया तो बेमतलब उलझ जाओगे!



ख्वाहिशें तमाम उमड़ पड़ती हैं... इन बादलों की तरह...
फिर बरसती है आँखें... इन बादलों की तरह...!! 







जी भरकर देखना है तुझे...
तू कहे तो... आँखें बन्द कर लूँ... हमेशा के लिए...?? $ 




बिछड़कर तुझसे ये जाना...
क्या चीज़ है ये... दिल लगाना...!! $








अब तो दिन रात पर हीं रुकता है...
मुझे याद है... पहले एक "शाम" भी हुआ करती थी...!!





मैं हारूँगा इस कदर...
की दुनिया... जीत कर भी रोयेगी...!!





मैं हारूँगा इस कदर...
की दुनिया... जीत कर भी रोयेगी...!!


जिन्हें कल तक चुभती थी बातें  मेरी...
उन्हें आज मेरी खामोशी भी खलती हैं...!!




भटकने की आरजू किसको है...
मिल जाओ जो तुम तो ठहर जाऊँ मैं...!!






वक्त जो भी बचा है थोड़ा जिन्दगी का...
चाहता हूँ उनमें... हँसू वो हँसी... तेरे पसन्द की...!! $ :-)








आज गुमनाम हूँ तो... ज़रा फासला रख मुझसे...
कल फिर मशहूर हो जाऊँ... तो कोई रिश्ता निकाल लेना...!!







गुलाब सी है मोहब्बत तेरी,
             
जितनी खुशबू उतनी ही है चुभन तेरी!!








कल तक उड़ती थी जो मुँह तक आज पैरों से लिपट गई;
चंद बूँदे क्या बरसी बरसात की धूल की फ़ितरत ही बदल गई!



सामने बैठे रहो दिल❤ को करार आएगा..
जितना देखेंगे तुम्हें उतना ही प्यार आएगा..








यूँ गुमसुम मत बैठो पराये लगते हो,
मीठी बातें नहीं है तो चलो झगड़ा ही कर लो.






सबको प्यारी हे अपनी ज़िन्दगी
पर तु मुझे ज़िन्दगी से भी प्यारी है.








क्या खूब रंग दिखाती है जिंदगी क्या इक्तेफ़ाक होता है,
प्यार में ऊम्र नही होती पर…. हर ऊम्र में प्यार होता है|






प्यार करना सिखा है….नफरतो का कोई जगह नही,बस तु ही तु है इस दिल ❤ मे, दूसरा कोई और नही








0 comment:

Post a Comment

1-Comment karte samay galat shabdo ka prayog na kare
2-post se related hi comment kare
3-ak hi comment bar bar na kare

Follow by Email

Recent Post

Contact Us

Name

Email *

Message *

Search This Blog